Saturday, February 4, 2017

Ancient rock carvings on granite rocks near Ranchi city.

Carvings are of Lord Ganesh, Lord Hanuman and Shivling.
by 
Dr. Nitish Priyadarshi
email: nitish.priyadarshi@gmail.com 






This site is in (Navratangarh) Doisagarh and is located in Gumla district of Jharkhand and is not much far from the capital city of Ranchi. Carvings are of Lord Ganesh, Lord Hanuman and Shivling. These carvings are estimated to be more than 400 years old.


Stone has been used for carving since ancient times for many reasons. Most types of stone are easier to find than metal ores, which have to be mined and smelted. Stone can be dug from the surface and carved with hand tools. Stone is more durable than wood, and carvings in stone last much longer than wooden artifacts. Stone comes in many varieties and artists have abundant choices in color, quality and relative hardness. Carving stone into sculpture is an activity older than civilization itself.

Saturday, August 20, 2016

Differential weathering of rocks near Ranchi city, India.

These weathering occurred along the joints of granite gneiss rocks.
by
Dr. Nitish Priyadarshi.
geologist
nitish.priyadarshi@gmail.com







This site is located in Panchgagh falls some 35 kms from Ranchi. Geomorphology of this area shows that its landscape is undulating; intersected with numerous streams and river.
 
Weathering causes the disintegration of rock near the surface of the earth. Plant and animal life, atmosphere and water are the major causes of weathering. Weathering breaks down and loosens the surface minerals of rock so they can be transported away by agents of erosion such as water, wind and ice. Differential weathering occurs when some parts of a rock weather at different rates than others. 

Friday, August 19, 2016

झारखंड में क्यों डोभा बन रहा है मौत का कुआँ ?

डोभा बनाने में क्या गड़बड़ी हो गई ?
द्वारा
डा. नितीश प्रियदर्शी

भूवैज्ञानिक


झारखंड सरकार की महत्वकांक्षी योजना में शामिल डोभा निर्माण योजना (तालाबनुमा छोटी संरचना) अब राज्य के लोगों के लिए मौत का कुआंसाबित हो रही है। राज्य में जल संचयन और जल संरक्षण के उद्देश्य से राज्यभर में करीब 200 करोड़ रुपये खर्च कर 1.77 लाख से ज्यादा डोभे का निर्माण कराया गया है।  डोभा निर्माण से दो फायदे तो निश्चित है पहला तो ये की बरसात का पानी जो पहले बह के निकल जाता था इस डोभा के निर्माण से कुछ हद तक रुकेगा और दूसरा की भूमिगत जल रिचार्ज होगा जिसकी अभी बहुत जरुरत है।

झारखंड में सरकार ने राज्यभर में बरसात का पानी जमा करने के लिए पिछले दो महीने में पौने दो लाख डोभे का निर्माण करवाया है। इसका उद्देश्य गांव का पानी गांव में तथा खेत का पानी खेत में जमा करने का है, लेकिन इस पहली बरसात में ही ये डोभे जानलेवा साबित हो रहे हैं।
आखिर डोभा बनाने में क्या गड़बड़ी हो गई जिसके चलते  इतने बच्चों की मौत हो गई।  इसके कई कारण हो सकते हैं।
    . गलत स्थान का चयन जैसे डोभा का निर्माण आबादी से दूर होना चाहिए। 

.   . 30 फीट लंबाई, 30 फीट चौड़ाई तथा 10 फीट गहराई के बने डोभा सीढ़ीनुमा बनाए जाते हैं, लेकिन झारखंड में सीढ़ियों के बीच काफी अंतर रखा गया है, इस कारण सीढ़ी बनाने का मकसद खत्म हो जाता है। वैसे भी सीढ़ी की ढाल तीखा नहीं होना चाहिए। ढाल तीखा होने से डूबने की संभावना ज्यादा हो जाती है।
   .झारखण्ड की मिट्टी ज्यादातर लेटराइट मिट्टी है।  जो पानी के अभाव में कड़ी हो जाती है तथा थोड़ी सी भी बारिश होने में पे ये नरम हो जाती है तथा फिसलन या मिट्टी के धसने की भी संभावना बढ़ जाती है।  अगर कोई भी इस तरह की मिट्टी पर निर्मित डोभा के करीब जायेगा तो फिसल के डूबने की संभावना बढ़ जाएगी। 
  . ज्यादातर डोभा के चारो तरफ घेराबंदी नहीं की गई है जो और भी खतरनाक है।  जरुरी है तार या झाड़ियों से घेराबंदी।  तथा लोगो को जागरूक करना की डोभा से दूर रहें तथा बच्चों को दूर रखें। इसके लिए वहाँ पे लाल झंडा या  खतरे का बोर्ड लगाना जरुरी है।
  . डोभा के किनारे घांस लगाने से फिसलन की संभावना कम हो जाती है।
   . डोभा का निर्माण अगर बारिश के पानी के बहाव के रास्ते  में बनाया जाय तो ये ज्यादा
       फायदेमंद होगा। 
   . डोभा के चारो तरफ उन पेड़ो को लगाया जाय  जिनकी वृद्धि तेज़ी से होती है तो ज्यादा फायदा
        होगा। 
   . तीव्र ढाल वाले स्थान  पे खासकर आबादी वाले जगह पर  डोभा बनाने से डूबने की संभावना
        ज्यादा हो जाती है।
९. डोभा ऐसा बने की उसकी ढाल धीमी हो तथा अगर कोई बच्चा या कोई जानवर गिरे
      तो उसके बाहर निकलने का रास्ता हो।
१०. जिसके जमीन पर डोभा बना हो उस व्यक्ति को जिम्मेवारी देना होगा तो वो डोभा के चारो तरफ घेरा लगाए।
११ जहाँ भी डोभा हो वहां दो या तीन बड़ा हवा भरा हुआ टायर ट्यूब हो ताकि अगर कोई गिरे तो उसे इस ट्यूब  के सहारे बचाया जा सके। अगर एक ट्यूब भी  पानी में तैरता रहे तो वो और भी फायदेमंद रहेगा खासकर बरसात में।
१२ डोभा की खुदाई में जो मिट्टी निकला हो उसको डोभा से कम से कम ४ फुट दूर ऊँचा करते हुए चारो तरफ डाला जाये ताकि वो एक रुकावट की तरह काम करे।
१३ झारखण्ड की मिट्टी कई जगह चिकनी तथा  फिसलन वाली है खासकर बरसात में। ऐसे में बच्चे खेल के दौरान फिसल कर डोभा के अंदर चले जाते हैं। इसपर विशेष ध्यान देने की जरुरत है।
कई स्थानों पर जहां चिकनी मिट्टी है वहां भी डोभा का निर्माण करा दिया गया जबकि कई डोभा में मेढ़ भी नहीं बनाए गए हैं, ऐसे में बच्चे खेल के दौरान फिसल कर डोभा के अंदर चले जाते हैं।

Tuesday, August 2, 2016

White coral of Andaman and Nicobar Islands, India.

This coral is from the Port Blair, the capital of the Andaman and Nicobar Islands.
by
Dr. Nitish Priyadarshi
Geologist,
Ranchi.
nitish.priyadarshi@gmail.com






Andaman and Nicobar Islands is home to some of the most spectacular species of marine life in the world. With over 560 different species of corals recorded until date, the sheer colour and diversity of the sights underwater can leave you spellbound. 

The coastal belt surrounding these islands is the abode of one of the richest coral reef ecosystems in the world. The distinction is that here the coral reefs and underwater formations are untouched by human activities. 

Officially, Lakshdweep is often cited as ‘The Coral capital of India’ but Andaman and Nicobar Islands also boast of beautiful corals all in and around the group of islands. Of all the islands and beaches that offer you spectacular views of the corals, Neil Island stands tall of all. It is said to have the loveliest corals in whole of Andamans.

There are essentially four types of coral reefs: Fringing Reefs, Atolls, Patch Reefs and Barrier Reefs. Fringing and barrier reefs tend to grow near the coastlines of islands and continents and are usually separated from land by a lagoon or shallow sea. Atolls occur when the coral reefs form a ring around the lagoon and often form around the mouth of an underwater volcano while patch reefs are more isolated reefs and rarely reach the surface of the water. Reefs tend to grow slowly and it can take an estimated 30 million years for an atoll to form.
Most of the coral reefs in India are of the fringing type but the Lakshwadeep Islands are coral atolls.


Corals are marine invertebrates in the class Anthozoa of phylum Cnidaria. The group includes the important reef builders that inhabit tropical oceans and secrete calcium carbonate to form a hard skeleton.

Corals are major contributors to the physical structure of the coral reefs that develop in tropical and subtropical waters, such as the enormous Great Barrier Reef off the coast of Queensland, Australia.

Although corals first appeared in the Cambrian period, some 542 million years ago, fossils are extremely rare until the Ordovician period, 100 million years later, when rugose and tabulate corals became widespread.

Coral reefs are the lifeline of the oceans. They are home to a wide variety of plants and animals and their health signifies the well-being of the entire marine ecosystem.
Coral reefs are known for some of the highest levels of gross productivity on earth. Coral polyps provide much of the energy to other communities in the marine ecosystem. The corals also harbour algae which process sunlight to fuel deriving nutrients from the polyp’s waste. Reef building corals and certain calcareous algae lay down the foundation of calcium carbonate. The massive structures built over generations are home to a wide array of plants and animals.

Coral reefs thus represent millions of years of growth and many of them could be the oldest living communities. The preferred places of coral reefs are shallow waters between the Tropic of Capricorn and Tropic of Cancer.

Coral reefs are under stress around the world. In particular, coral mining, agricultural and urban runoff, pollution (organic and inorganic), overfishing, blast fishing, disease, and the digging of canals and access into islands and bays are localized threats to coral ecosystems. Broader threats are sea temperature rise, sea level rise and pH changes from ocean acidification, all associated with green house gas emissions. In 1998, 16% of the world's reefs died as a result of increased water temperature.

Approximately 10% of the world's coral reefs are dead. About 60% of the world's reefs are at risk due to human-related activities. The threat to reef health is particularly strong in Southeast Asia, where 80% of reefs are endangered. Over 50% of the world's coral reefs may be destroyed by 2030; as a result, most nations protect them through environmental laws.

Water temperature changes of more than 1–2 °C (1.8–3.6 °F) or salinity changes can kill some species of coral. Many governments now prohibit removal of coral from reefs, and inform coastal residents about reef protection and ecology. While local action such as habitat restoration and herbivore protection can reduce local damage, the longer-term threats of acidification, temperature change and sea-level rise remain a challenge.

Wednesday, July 6, 2016

रांची की हवा में घुलता जहर।





रांची शहर पिछले कई वर्षों से वायु प्रदुषण की चपेट में आता जा रहा है। 
द्वारा
डा नितीश प्रियदर्शी।




वायुमण्डल पर्यावरण का एक महत्त्वपूर्ण हिस्सा है। मानव जीवन के लिए वायु का होना अति आवश्यक है। वायुरहित स्थान पर मानव जीवन की कल्पना करना करना भी बेकार है क्योंकि मानव वायु के बिना 5-6 मिनट से अधिक जिन्दा नहीं रह सकता। एक मनुष्य दिन भर में औसतन 20 हजार बार श्वास  लेता है। इसी श्वास के दौरान मानव 35 पौण्ड वायु का प्रयोग करता है। यदि यह प्राण देने वाली वायु शुद्ध नहीं होगी तो यह प्राण देने के बजाय प्राण ही लेगी।

हमारे वायुमण्डल में नाइट्रोजन, आक्सीजन, कार्बन डाई आक्साइड, कार्बन मोनो आक्साइड आदि गैस एक निश्चित अनुपात में उपस्थित रहती हैं। यदि इनके अनुपात के सन्तुलन में परिवर्तन होते हैं तो वायुमण्डल अशुद्ध हो जाता है, इसे अशुद्ध करने वाले प्रदूषण कार्बन डाई आक्साइड, कार्बन मोनो आक्साइड, नाइट्रोजन आक्साइड, हाइड्रोकार्बन, धूल मिट्टी के कण हैं जो वायुमण्डल को प्रदूषित करते हैं। आवागमन के साधनों की वृद्धि आज बहुत अधिक हो रही है। इन साधनों की वृद्धि से इंजनों, बसों, वायुयानों, स्कूटरों आदि की संख्या बहुत बढ़ी है। इन वाहनों से निकलने वाले धुएँ वायुमण्डल में लगातार मिलते जा रहे हैं जिससे वायुमण्डल में असन्तुलन हो रहा है।

वनों की कटाई से वायु प्रदूषण बढ़ा है क्योंकि वृक्ष वायुमण्डल के प्रदूषण को निरन्तर कम करते हैं। पौधे हानिकारक प्रदूषण गैस कार्बन डाई आक्साइड को अपने भोजन के लिए ग्रहण करते हैं और जीवनदायिनी गैस आक्सीजन प्रदान करते हैं, लेकिन मानव ने आवासीय एवं कृषि सुविधा हेतु इनकी अन्धाधुन्ध कटाई की है और हरे पौधों की कमी होने से वातावरण को शुद्ध करने वाली क्रिया जो प्रकृति चलाती है, कम हो गई है। यदि वायुमण्डल में लगातार अवांछित रूप से कार्बन डाइ आक्साइड, कार्बन मोनो आक्साइड, नाइट्रोजन, आक्साइड, हाइड्रो कार्बन आदि मिलते रहें तो स्वाभाविक है कि ऐसे प्रदूषित वातावरण में श्वास लेने से श्वसन सम्बन्धी बीमारियाँ होंगी। साथ ही उल्टी घुटन, सिर दर्द, आँखों में जलन आदि बीमारियाँ होनी सामान्य बात है।

रांची शहर पिछले कई वर्षों से वायु प्रदुषण की चपेट में  आता जा रहा है।  जहाँ १९६० -१९७० के दशक में यहाँ की जलवायु स्वास्थयवर्धक मानी जाती थी। रांची में प्रकृति ने अपने सौंदर्य को खुलकर लुटाया है। प्राकृतिक सुन्दरता के अलावा रांची ने अपने खूबसूरत पर्यटक स्थलों के दम पर विश्व के पर्यटक मानचित्र पर भी पुख्ता पहचान बनाई है।  आज इसी के वातावरण में विषाक्त कण तेज़ी से बढ़ रहे हैं।  जो रोग दिल्ली जैसे शहरों में उभर रहे हैं अब रांची में भी  पाँव पसार रहे हैं जैसे अस्थमा, श्वसन सम्बन्धी बीमारियां, आँखों में जलन तथा पानी  आना आदि। यहाँ भी छोटे बच्चों में   श्वसन सम्बन्धी  रोग तेज़ी से फ़ैल रहा है। वातावरण में पार्टिकुलेट मैटर (पीएम) 2.5 की मात्रा बढ़ने से दिल का दौरा पड़ सकता है। यह बहुत ही सूक्ष्म कण होता हो जो सांस के ज़रिये इंसान के खून में मिलकर दिल तक पहुंचता है जिससे दिल का दौरा पड़ता है।


वाहनों के द्वारा उत्सर्जित जहरीले पदार्थों में प्रमुख हैं, कार्बन डाइऑक्साइड , कार्बन मोनोऑक्साइड , सल्फर डाइऑक्साइड इत्यादि।  लेखक ने पाया की रांची में दो पहिए वाहन . से . प्रतिशत तक कार्बन मोनोऑक्साइड वातावरण में छोड़ रहे हैं  और एक कार औसतन ५०० पीपीएम ( पार्ट्स पर मिलियन ) हाइड्रोकार्बन वातावरण में उत्सर्जित कर रहा है।   अगर अकेले इनकी तुलना करें तो ये उत्सर्जन काफी कम है लेकिन हज़ारों को लेके चलें तो यही उत्सर्जन रोजाना कई हज़ार गुणा बढ़ जाता है। यही हाल बड़ी गाड़ियों की वजह से भी हुआ है।  झारखण्ड बनने के बाद बड़ी गाड़ियों की बेतहाशा वृद्धि हुई है जिसमे प्रमुख है डीज़ल गाड़ियां। एक स्वचालित वाहन द्वारा एक गैलन पेट्रोल के दहन से लगभग 5x20 लाख घनफीट वायु प्रदूषित होती है।  शहर में पेड़ कम हो जाने की वजह से  कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा बढ़ रही है।  क्योंकि पेड़  को सोख्ता है।

रांची में कई जगहों पर सड़क के किनारे और दुकानों के सामने खुले में डीज़ल जनरेटर रखे हुए हैं।  इनके चलने से भी हवा में कार्बन की मात्रा बढ़ रही है। 

रांची शहर में सबसे ज्यादा प्रभावित क्षेत्र हैं रातू रोड , मेनरोड, लालपुर , फिरायालाल चौक , अपर बाजार  एवं कांटाटोली चौक।  खासकर शाम के समय जब ये क्षेत्र ट्रैफिक जाम से प्रभावित रहता है उस वक़्त जहरीले गैस ज्यादा वातावरण में उत्सर्जित होते हैं। भवनों की अधिकता की वजह से ये गैस  वही फंस  जाते है  और काफी समय तक वही रहते हैं।  एक बार कार्बन डाइऑक्साइड वातावरण में जाये तो ये ११२ वर्ष तक वातावरण में रह सकता है अगर ये पेड़ों के द्वारा इसका इस्तेमाल किया गया हो।

आम राय यह है की यदि कार्बन डाइऑक्साइड को कम करना है तो अधिक से अधिक वृक्ष लगाएं क्योंकि हरे पौधे प्रकाश संश्लेषण हेतु कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करते हैं एवं ऑक्सीजन छोडते हैं।  रांची में वायु प्रदुषण के बढ़ने से ऑक्सीजन के घटने का भी खतरा है।

यही नहीं रांची शहर से धीरे हरियाली कम होते जा रही है जिसके चलते धूल प्रदुषण बढ़ा  है।  धूल भरी आंधी का उड़ना अब आम बात हो गई है जो पहले नहीं होती थी। इसमें  धूल के बहुत सूक्ष्म कण होते हैं जो फेफड़े को प्रभावित करते हैं।  इस सुक्ष्म कणो के साथ विषैले  भरी धातु भी होते हैं जो हमारे खून में आके स्वास्थ्य को प्रभावित करते हैं। 

रांची शहर में कई जगह लोग खुले में घरेलू कचरों को जलाते है जो और भी खतरनाक है। इन कचरों में प्रमुख है प्लास्टिक , हॉस्पिटल वेस्ट , इत्यादि  इसको जलाने  से कई तरह के जहरीले गैस एवं पदार्थ वातावरण में प्रवेश करते हैं जैसे कार्बन डाइऑक्साइड , डायोक्सीन , लिड , पारा , नाइट्रोजन ऑक्साइड इत्यादि। 


अगर रांची शहर को वायु प्रदुषण से बचाना है तो अधिक से अधिक मात्रा में बड़े और चौड़े पत्तों का पेड़ लगाना जरुरी है। वाहनों में ईंधन से निकलने वाले धुएँ को ऐसे समायोजित, करना होगा जिससे की कम-से-कम धुआँ बाहर निकले। और खुले में कचरे को जलने से बचना होगा।